मौसम का कहर: फसलों पर पड़ी सूखे की मार, बारिश की कमी से 60 फीसदी तक बर्बाद

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

करसोग35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

करसोग में मौसम की पड़ी मार से किसानों की कमर तो टूटी है, लेकिन अब इसका असर मंडियों में भी दिखने लगा है। उपमंडल के तहत चुराग सब्जी मंडी की बात करें तो यहां रबी सीजन में मटर कारोबार आधे से भी कम रहने के आसार नजर आ रहे हैं। करसोग में मटर सीजन शुरू हो गया है, लेकिन स्थिति है कि मंडी में बहुत ही कम मात्रा में मटर पहुंच रहा है।

जिससे आढ़तियों के पास प्रदेश की अन्य मंडियों में मटर भेजने के लिए लोड भी पूरा नहीं हो रहा है। ऐसे में कम फसल होने से आढ़तियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। रबी सीजन में मटर ली जाने वाली प्रमुख फसल है। अकेले चुराग सब्जी मंडी में हर साल औसतन 40 से 60 लाख तक मटर कारोबार होता है, लेकिन इस बार यही कारोबार आधे से भी कम रहने के आसार है।

चुराग सब्जी मंडी के आढ़ती मीना राम का कहना है कि बारिश न होने से मटर की फसल बर्बाद हो गई है। उन्होंने बताया कि पिछली साल चुराग मंडी में 40 से 60 लाख का मटर कारोबार हुआ था, लेकिन इस बार यही कारोबार 10 लाख तक रहने के आसार हैं। उन्होंने कहा कि इससे आढ़तियों को भी काफी नुकसान होगा। विकासखंड करसोग के कृषि विभाग के विषय वार्ता विशेषज्ञ मुंशी राम ठाकुर का कहना है कि करसोग में 60 फीसदी मटर की फसल सूखे की वजह से बर्बाद हुई है।

खबरें और भी हैं…

Dainic Bhaskar

Leave a Comment