मिस्र की चर्चित महिला ममी तकाबुती की रहस्‍यमय मौत का 2600 साल बाद खुलासा, जानें कैसे हुई मौत

हाइलाइट्स:

  • मिस्र की महिला ममी तकाबुती की बेहद रहस्‍यमय मौत का 2600 साल बाद खुलासा
  • ताजा शोध में कहा गया है कि तकाबुती की मौत पीठ में कुल्‍हाड़ी मारे जाने से हुई थी
  • इससे पहले ऐसा माना जाता था कि तकाबुती की मौत चाकू मारने से हुई थी

काहिरा
मिस्र की बहुचर्चित महिला ममी तकाबुती की बेहद रहस्‍यमय मौत का 2600 साल बाद खुलासा हो गया है। ताजा शोध में कहा गया है कि तकाबुती की मौत पीठ में कुल्‍हाड़ी मारे जाने से हुई थी। इससे पहले ऐसा माना जाता था कि तकाबुती की मौत चाकू मारने से हुई थी। माना जाता है कि करीब 2600 साल पहले तकाबुती एक संभ्रांत महिला थी जो उस समय थेबेस शहर (आज का लक्‍सर) में रहती थी।

यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्‍टर के प्रफेसर रोजली डेविड और क्‍वीन यूनिवर्सिटी बेलफास्‍ट के प्रफेसर इलिन मर्फी ने इस रहस्‍यमय मौत के बारे में ताजा शोध को पूरा किया है। तकाबुती की मौत दुनियाभर में पिछले कई दशक से रहस्‍य बनी हुई थी। इस बेहद खास ममी को वर्ष 1834 में आयरलैंड लाया गया था और कई सौ साल बाद उसे पहली बार खोला गया था।
मिस्र में 2300 साल पुराने शापित ताबूत से मिला रहस्‍यमय ‘जूस’, 36 हजार लोग कर रहे पीने की मांग
तकाबुती को मारने के लिए सैन्‍य कुल्‍हाड़ी का इस्‍तेमाल
इस ताजा को शोध को तकनीक, डीएनए, एक्‍सरे, सीटी स्‍कैन के जरिए अंजाम दिया गया है। इस दौरान ममी के बाल और उसे ममी बनाने वाले सामानों की भी जांच की गई थी। शोधकर्ताओं ने कहा कि तकाबुती को मारने के लिए सैन्‍य कुल्‍हाड़ी का इस्‍तेमाल किया गया। उन्‍होंने कहा कि तकाबुती अपने हमलावर से बचने का प्रयास कर रही थी और इसी दौरान पीछे से हमला किया गया।


शोधकर्ताओं ने कहा कि यह हमलावर असीरियन या खुद तकाबुती के अपने लोगों में शामिल व्‍यक्ति हो सकता है। इससे पहले ममी के स्‍कैन में पता चला था कि त‍काबुती के कमर के ऊपरी हिस्‍से में चाकू से हमला किया गया। चाकू मारने की वजह से ही तकाबुती की मौत हो गई थी। ताजा शोध में अब कहा गया है कि तकाबुती को मारने के लिए कुल्‍हाड़ी का इस्‍तेमाल किया गया था। इस कुल्‍हाड़ी का इस्‍तेमाल उस समय मिस्र और असीरियन सैनिक धडल्‍ले से करते थे। शोधकर्ताओं ने कहा कि तकाबुती संभवत: खुद अपने ही लोगों के हमले का शिकार हो गई।

India times

Leave a Comment