महाराष्ट्र में कोरोना बेकाबू, बीते 24 घंटे में दर्ज किए गए 47,827 नए मामले, 202 लोगों की हुई मौत

देशभर में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इस बीच देश के अलग-अलग राज्यों से लगातार कोरोना के मामलों में वृद्धि की खबरें सामने आ रही हैं। वहीं, महाराष्ट्र देश में कोरोना वायरस का गढ़ बनता जा रहा है। शुक्रवार को महाराष्ट्र में कुल 47,827 नए कोरोना मामले सामने आए हैं, वहीं इस वायरस के कारण 202 लोगों की मौत भी हो गई है। इसके साथ ही अब राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 29,04,076 हो गई है। वहीं एक्टिव मामलों की बात की जाए तो राज्य में कोरोना के कुल 3,89,832 सक्रिय मामले मौजूद हैं।

इससे पहले गुरुवार को राज्य में 43000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक गुरुवार को राज्य में कोरोना वायरस के 43,183 नए मामले सामने आए थे।  

मुंबई और नागपुर में भी बढ़े हैं मामले

इस बीच महाराष्ट्र के कई शहर भी कोरोना के गढ़ बनते जा रहे हैं। बीते 24 घंटे में मुंबई में कुल 8,832 नए कोविड मामले सामने आए हैं, साथ ही 5352 लोगों इस वायरस से ठीक हो चुके हैं। वहीं 20 लोगों की इस वायरस के कारण मौत भी हो गई है। इसके साथ ही शहर में कोरोना संक्रमण के कुल मामलों को संख्या 4,32,192 तक पहुंच गई है। वहीं मुंबई में एक्टिव मामलों की संख्या अब  58,455 हो गई है। 

इसके अलावा राज्य के एक अन्य शहर नागपुर में बीते 24 घंटे में कोरोना के कुल 4108 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 3,214 लोग वायरस से ठीक हो चुके हैं। वहीं वायरस के कारण 60 लोगों की मौत भी हो गई हैं। इसके साथ ही शहर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 2,33,776 तक पहुंच गया है। इसके अलावा नागपुर में अब कोरोना के कुल 40,807 एक्टिव मामले मौजूद हैं। वहीं वायरस से होने वाली मौत का आंकड़ा 5,281 तक पहुंच गया है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जताई है चिंता

इस बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में कोरोना के बढ़ते केसों पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि यदि इसी रफ्तार में केस बढ़ते रहे तो 15 दिन में संसाधन कम पड़ने लग जाएंगे। मुख्यमंत्री ठाकरे ने शुक्रवार रात राज्य के लोगों को संबोधित करते हुए लॉकडाउन की घोषणा तो नहीं की, लेकिन यह जरूर कहा कि यदि स्थिति ऐसी रही तो इसकी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि लोग लापरवाह हो गए हैं, सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ को रोकने के लिए एक-दो दिन में और अधिक पाबंदियां लगाई जाएंगी। 

पुणे में कर दिया गया है 12 घंटे के नाइट कर्फ्यू का ऐलान

आपको बता दें कि बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र के एक अन्य शहर पुणे में नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है। यह फैसला शनिवार 3 अप्रैल से लागू होगा और अगले शुक्रवार को इसकी समीक्षा की जाएगी। शाम को 6 बजे से सुबह 6 बजे तक के लिए यह नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा। देश के कई शहरों में लगे नाइट कर्फ्यू के मुकाबले यह सबसे लंबा कर्फ्यू होगा। पुणे के डिविजनल कमिश्र सौरभ राव ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि अगले 7 दिनों तक बार, होटल, रेस्तरा भी बंद रहेंगे। इसके अलावा शादी एवं अंतिम संस्कार के अलावा किसी भी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रमों पर भी रोक रहेगी। शादियों में 50 से ज्यादा और अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोगों को जुटने की अनुमति नहीं होगी। इस दौरान सभी धार्मिक स्थल भी पूरी तरह से बंद रहेंगे।

पूरे महाराष्ट्र राज्य की बात करें, तो इस साल मार्च में यहां कोविड-19 के कुल 6,51,513 मामले आए हैं, जो पिछले पांच महीने में आए कुल मामलों का 88.23 प्रतिशत हैं।आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल एक अक्टूबर और 28 फरवरी 2021 के बीच कोरोना वायरस के 7,38,377 मामले सामने आए। आंकड़ों से पता चलता है कि पूर्व के महीनों की तुलना में मार्च 2021 में संक्रमण की रफ्तार बढ़ी है। विशेषज्ञों का कहना है कि इसकी मुख्य वजह यह है कि कोविड-19 से बचाव के संबंध में लोग उपयुक्त व्यवहार नहीं अपना रहे हैं।

Hindustan news

Leave a Comment