झरिया थानेदार हुए सस्पेंड: ड्यूटी के दौरान मनमानी और लापरवाही करने पर IG ने लिया एक्शन, मुआवजा मांगने वाले परिजनों पर थानेदार ने बरसाई थी लाठियां

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शंभू नाथ30 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जांच में थानेदार प्रमोद कुमार सिंह के खिलाफ लापरवाही, अनुशासनहीनता और डुयूटी के दौरान मनमानी करने का आरोप सही पाया गया है।

झरिया के थानेदार प्रमोद कुमार सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है। IG प्रिया दुबे ने थानेदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई के तहत यह एक्शन लिया है। DIG सह SSP की आरोप प्रारूप में संशोधन कर IG ने उन्हें स्सपेंड करने के साथ ही इनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही करने का भी आदेश दिया है।

जांच में थानेदार प्रमोद कुमार सिंह के खिलाफ लापरवाही, अनुशासनहीनता और डुयूटी के दौरान मनमानी करने का आरोप सही पाया गया है। निलंबन अवधी के दौरान इन्हें पुलिस केंद्र बोकारो में रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है। CM हेमंत सोरेन ने खुद वीडियो को ट्वीट कर मामले की जांच कर सख्त कार्रवाई का आदेश दिया था।

IG प्रिया दूबे ने अपनी संशोधित रिपोर्ट में कहा है कि, मामले का शांति से भी समाधान किया जा सकता था।

IG ने आरोप प्रारूप में कहा-एक ही व्यक्ति को 4 पुलिसकर्मी पीट रहे थे
IG ने अपने संशोधित आरोप प्रारूप में कहा है कि कि मृतक के भाई धनंजय श्रीवास्तव संयम बरतते हुए मुआवजा व नौकरी की मांग कर रहे थे। लेकिन थाना प्रभारी अचानक गाली-गलौज कर मारपीट करने लगे। वीडियो में स्पष्ट है कि भीड़ में व्यक्तियों की संख्या काफी कम है। लेकिन झरिया थाना प्रभारी बिना कारण के गाली-गलोज व अपशब्दों का प्रयोग करते नजर आ रहे हैं। एक ही व्यक्ति को 3-4 व्य्कित पीट रहे हैं। प्रमोद कुमार सिंह के इस व्यवहार से पुलिस की छवि खराब हुआ है।

मुआवजा मांगने पर परिजनों पर बसाई थी लाठियां
मामला 31 मार्च का है। झारखंड के झरिया की BCCL कोलियरी में आरके ट्रांसपोर्ट के आउटसोर्सिंग’ में कार्यरत भाई की हत्या के बाद शव के साथ परिजन मुआवजे की मांग कर रहे थे। 50-100 की संख्या में लोग प्रदर्शन कर रहे थे। वे कोलियरी बंद करने की मांग पर अड़े थे। बस इतनी सी ही बात पर झरिया थानेदार ने मृतक के परिजनों के साथ गाली-गलौज और मारपीट करने लगे थे।

खबरें और भी हैं…

Dainic Bhaskar

Leave a Comment