जाेड़ाें काे कानूनी मान्यता दिलाने का प्रयास: बसिया में लिव इन में रहने वाले 55 जाेड़े की आज हाेगी शादी

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

लिव इन रिलेशनशिप महानगर और बड़े शहरों की प्रचलन है, लेकिन झारखंड में यह प्रथा सदियों से चली आ रही है। झारखंड में इस प्रथा काे ढुकू कहा जाता है। हालांकि, आदिवासी समाज के लोग मजबूरी और आर्थिक तंगहाली के चलते इसे अपनाते हैं। ऐसी दंपती को समाज में मान्यता नहीं मिल पाने की वजह से जीवनभर परेशानियाें का सामना करना पड़ता है।

ऐसे जोड़े को कानूनी मान्यता दिलाने के लिए निमित्त सेवा संस्था 5 वर्षाें से लगातार प्रयास कर रही है। 16 फरवरी को गुमला जिले के बसिया में संस्था की ओर से सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया है। आयाेजन में 55 जोड़े की शादी प्रस्तावित है।

इन जोड़ों को इच्छा अनुसार हिंदू और ईसाई धर्म से संबंधित धर्म गुरुओं द्वारा शादी कराई जाएगी। निमित्त संस्था की सचिव निकिता सिन्हा ने भी इस सामाजिक समस्या के सामाधान करने के लिए समाज के लोगों को आगे आने का अनुरोध किया है। निकिता ने कहा कि गांव में लिव-इन रिलेशन में रहने वाले ऐसे हजारों परिवारों के लिए यह कार्यक्रम उम्मीद भरा है।

Dainic Bhaskar

Leave a Comment