जम्मू-कश्मीर : छोटे बागवान भी ले सकेंगे सब्सिडी का लाभ, डेमोस्टेशन स्क्रीम के तहत होंगे कवर

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

जम्मू-कश्मीर में अब एक या दो कनाल जमीन वाले बागवानों को भी बागवानी करने पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी। बागवानी विभाग डेमोस्टेशन स्कीम के तहत ऐसे बागवानों को कवर करेगा। बागवान अपने बगीचे लगाकर 40 फीसदी सब्सिडी हासिल कर सकेंगे। इससे पहले दस कनाल जमीन वाले बागवानों को ही सब्सिडी का लाभ मिल रहा था। अब छोटे बागवान भी योजना के तहत कवर किए जाएंगे।

बागवान औषधीय पौधे या फिर अन्य फलदार पौधे लगा सकेंगे। इसके लिए बागवानों को बागवानी विभाग के पास आवेदन करना होगा। इसके बाद विभाग पौधे उपलब्ध करवाएगा। बाद में कुल खर्च पर 40 फीसदी तक सब्सिडी भी देगा। इसके बारे में अब बागवानों को जागरूक करने के लिए काम तेज हो गया है। किसानाें को पंचायत स्तर पर भी जागरूक किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर में मिले 64 और संक्रमित, कश्मीर संभाग से 53 मामले, कोई मौत नहीं

बड़े बागवानों के समूह को दस लाख तक लोन
दस कनाल से ऊपर वाले बागवानों को दस लाख रुपये तक लोन सुविधा दी जाएगी। इसके माध्यम से दस किसान अपना समूह तैयार कर सकेंगे और मशीनरी व अन्य बगीचे लगा सकेंगे। मशीनरी को आगे किराये पर भी बागवानों को दे सकेंगे। इसके लिए बागवानी विभाग के नियमों को पूरा करना होगा। इसमें एक किराये के कमरे में मशीनरी रखी जाएगा। कार्रवाई पूरी होने के बाद बागवानों को अस्सी प्रतिशत सब्सिडी दी जाएगी। यानी बागवान एक लाख रुपये तक खर्च करता है तो उसे अस्सी हजार रुपये तक सब्सिडी मिलेगी।  

एक या दो कनाल वाले छोटे बागवानाें को भी पौधे लगाने पर अब सब्सिडी का लाभ मिलेगा। इससे वह बगीचा लगाकर आय अर्जित कर सकेंगे। बड़े स्तर के बागवान भी योजना का लाभ उठा पाएंगे।
-राम सेवक, निदेशक, बागवानी विभाग

जम्मू-कश्मीर में अब एक या दो कनाल जमीन वाले बागवानों को भी बागवानी करने पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी। बागवानी विभाग डेमोस्टेशन स्कीम के तहत ऐसे बागवानों को कवर करेगा। बागवान अपने बगीचे लगाकर 40 फीसदी सब्सिडी हासिल कर सकेंगे। इससे पहले दस कनाल जमीन वाले बागवानों को ही सब्सिडी का लाभ मिल रहा था। अब छोटे बागवान भी योजना के तहत कवर किए जाएंगे।

बागवान औषधीय पौधे या फिर अन्य फलदार पौधे लगा सकेंगे। इसके लिए बागवानों को बागवानी विभाग के पास आवेदन करना होगा। इसके बाद विभाग पौधे उपलब्ध करवाएगा। बाद में कुल खर्च पर 40 फीसदी तक सब्सिडी भी देगा। इसके बारे में अब बागवानों को जागरूक करने के लिए काम तेज हो गया है। किसानाें को पंचायत स्तर पर भी जागरूक किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर में मिले 64 और संक्रमित, कश्मीर संभाग से 53 मामले, कोई मौत नहीं

बड़े बागवानों के समूह को दस लाख तक लोन

दस कनाल से ऊपर वाले बागवानों को दस लाख रुपये तक लोन सुविधा दी जाएगी। इसके माध्यम से दस किसान अपना समूह तैयार कर सकेंगे और मशीनरी व अन्य बगीचे लगा सकेंगे। मशीनरी को आगे किराये पर भी बागवानों को दे सकेंगे। इसके लिए बागवानी विभाग के नियमों को पूरा करना होगा। इसमें एक किराये के कमरे में मशीनरी रखी जाएगा। कार्रवाई पूरी होने के बाद बागवानों को अस्सी प्रतिशत सब्सिडी दी जाएगी। यानी बागवान एक लाख रुपये तक खर्च करता है तो उसे अस्सी हजार रुपये तक सब्सिडी मिलेगी।  

एक या दो कनाल वाले छोटे बागवानाें को भी पौधे लगाने पर अब सब्सिडी का लाभ मिलेगा। इससे वह बगीचा लगाकर आय अर्जित कर सकेंगे। बड़े स्तर के बागवान भी योजना का लाभ उठा पाएंगे।

-राम सेवक, निदेशक, बागवानी विभाग

Source link

Categories Gujarat

Leave a Comment