गुजरात की पहली ट्रांस महिला डॉक्टर जिनका है मां बनने का सपना!

टीओआई की एक खबर के मुताबिक, दयारा मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित योग्यता परीक्षा की तैयारी कर रही हैं ताकि वह भारत में अभ्यास कर सकें। परीक्षा के बाद उनकी सेक्स रिवीजन सर्जरी होनी है।

डॉ जेसनूर दयारा जिन्होंने हाल ही में गुजरात की पहली ट्रांस महिला डॉक्टर बनने के लिए एक रूसी विश्वविद्यालय से एमबीबीएस की डिग्री हासिल की, उनका जन्म गुजरात के छोटे से शहर गोधरा में हुआ था। वह बचपन से समझ गई थी की उनका शरीर भले ही पुरुष का है लेकिन अंदर से वह एक महिला जैसा महसूस करती है। वह अपने बचपन को याद करते हुए बताती है कि कैसे बचपन में वह साड़ी पहनने के लिए तरसती थी और लिपस्टिक का इस्तेमाल अपनी माँ और बहन की तरह करती थी। भले ही वह महिला की तरह महसूस करती थी लेकिन उन्होंने अपने आंतरिक स्त्री को छिपाए रखा, वह नहीं चाहती थी कि उनका परिवार  दयारा के बारे में गलत महसूस करे। दयारा  जब मेडिकल की पढ़ाई के लिए विदेश गई तब वह पूरी तरह से अजाद हुई और उन्हें एक नई पहचान मिली। उन्होंने हिम्मत करी और वास्तविकता को अपनाया। दायरा की इस वास्तविकता को उनके परिवार वालों ने भी अपनाया। 

इसे भी पढ़ें: नए कृषि सुधारों को लेकर पीएम मोदी ने कहा, छोटे और सीमांत किसानों को होगा सबसे ज्यादा लाभ

टीओआई की एक खबर के मुताबिक, दयारा मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित योग्यता परीक्षा की तैयारी कर रही हैं ताकि वह भारत में अभ्यास कर सकें। परीक्षा के बाद उनकी सेक्स रिवीजन सर्जरी होनी है। सेक्स चैंज कराने के बाद दायरा का एक ही सपना है और वह है मां बनने का। दायरा ने टीओआई से कहा कि, ” देवी काली ने मुझे एक महिला बनने की ताकत दी है।एक महिला एक पिता, एक मां और एक दोस्त सब बन सकती है।  उन्होंने आगे कहा कि, गर्भाशय आपको मां नहीं बनाती है बल्कि एक प्यारा दिल आपको मां बनाता है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की अदालत ने दीप सिद्धू की पुलिस कस्टडी 7 दिन के लिए बढ़ाई

आपको बता दें कि लोकसभा में पारित सरोगेसी (विनियमन) विधेयक, 2019, के अनुसार किसी भी एक पुरुष या एक एलजीबीटीक्यू जोड़े या एक लिव-इन रिलेशनशिप जोड़े को सरोगेसी का ऑप्शन चुनने  की अनुमति नहीं देता है। विधेयक को उच्च सदन और राष्ट्रपति की मंजूरी का इंतजार है। डॉ दयारा ने कहा, “एक माँ बनने के लिए, मैं दुनिया भर में सरोगेसी के ऑप्शन की तलाश में रहूंगी,मुझे खुद को स्वीकार करने और अपने परिवार और समाज को मुझे स्वीकार करने के लिए बहुत हिम्मत की जरूरत लगी है। मैं बायोलॉजिकल माता-पिता बनकर अपने और अपने जैसे अन्य लोगों के लिए एक नया अध्याय लिखना चाहती हूं। ”

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

प्रभा शाक्षी

Leave a Comment