गणतंत्र दिवस हिंसा के सबूत जुटाने लाल किला पहुंची फॉरेंसिक टीम, लोगों ने भेजे 1700 मोबाइल क्लिप


India

oi-Akarsh Shukla

|

Farmers Protest: केंद्र सरकार द्वारा लागू नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन एक बार फिर अपने पैरों पर खड़ा हो गया है। ट्रैक्टर रैली (Tractor rally) के दौरान गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर दिल्ली में हुई हिंसा के बाद से लग रहा था कि किसान आंदोलन अब टूटकर बिखर जाएगा, लेकिन शुक्रवार को महापंचायत के बाद अब फिर से किसानों ने आंदोलन तेज कर दिया है। इस बीच लाल किले (Red Fort) पर हुई हिंसा की जांच भी अब तेज हो गई है, शुक्रवार को जांच के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने फॉरेंसिक टीम के साथ घटना स्थल का दौरा किया।

दिल्ली हिंसा के सबूत जुटाने लाल किले पहुंची फॉरेंसिक टीम ने वहां के कुछ नमूने लिए और साक्ष्या एकत्र किए। बता दें कि ट्रैक्टर रैली के दौरान पुलिस कर्मियों और उपद्रवियों के बीच हुई झड़प में कई लोग जख्मी हो गए थे। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने गई गिरफ्तारियां भी की हैं साथ ही, कई किसान नेताओं पर एफआईआर भी दर्ज किया गया है। 26 जनवरी की घटना को लेकर अब दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने भी अपनी जांच शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि क्राइम ब्रांच की टीम को हिंसा के संबंध में जनता से 1,700 मोबाइल क्लिप और सीसीटीवी फुटेज मिले हैं।

राकेश टिकैत ने पूछा-आखिर दीप सिद्धू ने लाल किले पर झंडा फहराया कैसे, पुलिस ने क्यों नहीं की फायरिंग?

एक अधिकारी ने बताया कि ‘फॉरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम ने शनिवार को लालकिले का दौरा किया और साक्ष्य एकत्रित किए। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने बुधवार बताया था कि किसानों ने मंगलवार को पुलिस के द्वारा दिए गए दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हुए पुलिस बैरिकेड तोड़कर हिंसक घटनाएं की। कुल मिलाकर 394 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं और कुछ पुलिसकर्मी ICU में भी है।

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए . पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Allow Notifications

You have already subscribed



oneindia

Categories Home

Leave a Comment