कोरोना : पिछले साल की गलती ना दोहराएं, होली पर सतर्क रहें लोग

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

हसनपुर। होली का पर्व मनाने के लिए विदेशों एवं दूरदराज के शहरों से लोग अपने घर आए हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। पिछले वर्ष विदेशों से आने वाले लोग बिना जांच कराए ही होली के त्यौहार पर होली के कार्यक्रमों में शामिल हो गए थे और कोरोना तेजी से बढ़ा था। इस तरह की गलती अब भी दोहराई जा रही है। लोग विदेशों से आ रहे हैं और ऐसे शहरों से आ रहे हैं, जहां कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है लेकिन कोरोना की जांच कराने से लोग कतरा रहे हैं। होली के हुड़दंग में ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है।
कोरोना संक्रमण की बात की जाए तो पिछले वर्ष जनवरी और फरवरी में कोरोना के मरीजों की संख्या बहुत कम थी। मार्च में भी स्थिति कंट्रोल में थी। लेकिन होली के पर्व पर आयोजित कार्यक्रमों के बाद से संक्रमितों की संख्या में एकाएक इजाफा हुआ था। एक अनुमान के मुताबिक तहसील क्षेत्र में हजारों की तादाद में ऐसे लोग अपने घर होली का त्योहार मनाने आए हैं। जो महाराष्ट्र, दिल्ली, मुंबई, गुजरात, कोलकाता आदि ऐसे प्रदेशों में नौकरी करते हैं, जहां कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इनमें विदेश से आने वाले लोगों की संख्या भी अच्छी खासी है। परेशानी की बात है कि ऐसे लोग घर आने से पहले कोरोना टेस्ट नहीं करा रहे हैं। तो ऐसे लोगों से होली के त्योहार पर सावधान व सतर्क रहने की जरूरत है। उनसे बिना मास्क लगाए होली ना मिलें। गले मिलने की बजाय हाथ जोड़कर शुभकामनाएं दे सकते हैं। होली मिलते समय शारीरिक दूरी का ख्याल रखा जाना चाहिए।
-होली के त्योहार पर एक दूसरे के गले मिलने की बजाय शारीरिक दूरी का पालन करें। बाहर से आने वाले लोग कोरोना की जांच कराएं। कोरोना तेजी से बढ़ रहा है। सावधानी और सतर्कता ही इससे बचा सकती है। -डा.अमित बरू, प्रभारी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हसनपुर।

हसनपुर। होली का पर्व मनाने के लिए विदेशों एवं दूरदराज के शहरों से लोग अपने घर आए हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। पिछले वर्ष विदेशों से आने वाले लोग बिना जांच कराए ही होली के त्यौहार पर होली के कार्यक्रमों में शामिल हो गए थे और कोरोना तेजी से बढ़ा था। इस तरह की गलती अब भी दोहराई जा रही है। लोग विदेशों से आ रहे हैं और ऐसे शहरों से आ रहे हैं, जहां कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है लेकिन कोरोना की जांच कराने से लोग कतरा रहे हैं। होली के हुड़दंग में ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है।

कोरोना संक्रमण की बात की जाए तो पिछले वर्ष जनवरी और फरवरी में कोरोना के मरीजों की संख्या बहुत कम थी। मार्च में भी स्थिति कंट्रोल में थी। लेकिन होली के पर्व पर आयोजित कार्यक्रमों के बाद से संक्रमितों की संख्या में एकाएक इजाफा हुआ था। एक अनुमान के मुताबिक तहसील क्षेत्र में हजारों की तादाद में ऐसे लोग अपने घर होली का त्योहार मनाने आए हैं। जो महाराष्ट्र, दिल्ली, मुंबई, गुजरात, कोलकाता आदि ऐसे प्रदेशों में नौकरी करते हैं, जहां कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इनमें विदेश से आने वाले लोगों की संख्या भी अच्छी खासी है। परेशानी की बात है कि ऐसे लोग घर आने से पहले कोरोना टेस्ट नहीं करा रहे हैं। तो ऐसे लोगों से होली के त्योहार पर सावधान व सतर्क रहने की जरूरत है। उनसे बिना मास्क लगाए होली ना मिलें। गले मिलने की बजाय हाथ जोड़कर शुभकामनाएं दे सकते हैं। होली मिलते समय शारीरिक दूरी का ख्याल रखा जाना चाहिए।

-होली के त्योहार पर एक दूसरे के गले मिलने की बजाय शारीरिक दूरी का पालन करें। बाहर से आने वाले लोग कोरोना की जांच कराएं। कोरोना तेजी से बढ़ रहा है। सावधानी और सतर्कता ही इससे बचा सकती है। -डा.अमित बरू, प्रभारी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हसनपुर।

amarujala

Categories Amroha

Leave a Comment