कुकिंग ऑयल खरीदते समय रखें इन बातों का ख्‍याल, रहेंगे हेल्‍दी


कुकिंग ऑयल खरीदते समय रखें कुछ बातों का ख्‍याल

इन दिनों बाजार में इतने तरह के कुकिंग ऑयल हैं कि हमें समझ में नहीं आता कि कौन सा तेल हमारे लिए बेहतर होगा और कौन सा खराब. ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि इन्‍हें खरीदने से पहले हमें अपने शरीर की जरूरतों और बाजार के इन तमाम ऑयल्‍स की अच्‍छी बुरी बातों की सही जानकारी पता हो.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 18, 2021, 11:59 AM IST

इन दिनों हेल्‍थ डिजीज की समस्‍या घर घर में देखने को मिल रही है. इसकी वजह लाइफस्‍टाइल (Lifestyle) में आई गिरावट के साथ हमारे खान पान में आए बदलाव भी हैं. अगर हम अपने खाने पीने और उनके कुकिंग मेथड में कुछ चेंज करें तो हम अपने हार्ट के साथ साथ पूरे शरीर को लंबे समय तक हेल्‍दी रख सकते हैं. इन दिनों बाजार में इतने तरह के कुकिंग ऑयल हैं (Cooking Oil) कि हमें समझ में नहीं आता कि कौन सा तेल हमारे लिए बेहतर होगा और कौन सा खराब. ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि इन्‍हें खरीदने से पहले हमें अपने शरीर की जरूरतों और बाजार के इन तमाम ऑयल्‍स की अच्‍छी बुरी बातों की सही जानकारी पता हो. तो आइए जानते हैं कि कुकिंग ऑयल घर लाने से पहले किन बातों को ध्‍यान में रखना जरूरी है.

ओमेगा 3 और 6 का हो अच्‍छा कॉम्बिनेशन

कुकिंग ऑयल (Cooking Oil) खरीदते समय यह जरूर देखें कि उसमें ओमेगा 3 (Omega 3) और ओमेगा 6 (Omega 6) का रेशियो कैसा है. खास तौर पर अगर आप वेजिटेरियन हैं. आपको उन ऑयल को प्रयोग में लाना चाहिए जिसमें ओमेगा 3 हो. बता दें कि ओमेगा 3 की मात्रा मछली में सबसे ज्‍यादा होती है. जबकि राजमा, अलसी और अखरोट आदि भी इसका अच्‍छा सोर्स हैं. वहीं ओमेगा 6 लगभग हर ग्रेन जैसे दाल और तेल में मिल ही जाता है. ऐसे में अगर हम ओमेगा 3 के सोर्स के रूप में सरसों, कनोला, ऑलिव और सोयाबीन के तेल को प्रयोग करें तो यह हमारे सेहत के लिए अच्‍छा होगा. हाई अनसेचुरेटेड फैटी एसिड वाले कुकिंग ऑयल में भी सेहत से जुड़े कई फायदे हैं. यह आसानी से डायजेस्‍ट हो जाते हैं और स्‍वाद में भी अच्‍छे होते हैं.

ट्रांस फैट की दी गई हो जानकारीबाजार से जब भी कुकिंग ऑयल खरीदें यह जरूर चेक करें कि उसमें ट्रांस फैट की मात्रा लिखी गई हो. यदि नहीं दी गई हो तो ना ही खरीदें. हमेशा यह चेक करें कि तेल की बोतल पर जीरो ट्रांस फैट लिखा हो. इसके अलावा पैकेट पर नॉन हाइड्रोजिनेटिड और नॉन पीएचवीओ (PHVO) भी लिखा हो. यह भी देखें कि गामा ऑरिजनअल की मात्रा दी गई है या नहीं. यह बैड कोलेस्‍ट्रॉल को घटाता और और गुड कॉलेस्‍ट्रॉल को बढाने का काम करता है.

ऑफर के चक्‍कर में ना रहें

कई बार जिन प्रोडक्‍ट का एक्‍सपायरी डेट पास आ जाता है उन्‍हें ऑफर में कंपनी बेच लेती है. ऐसे में खरीदते समय यह जरूर चेक करें कि तेल की बोतल एक साल से ज्‍यादा पुरानी तो नहीं. एक्‍सपायरी डेट पास हो तो बिलकुल भी ना खरीदें.

डॉक्‍टर से जरूर लें सलाह

यदि आपके परिवार में किसी को सेहत से जुड़ी समस्‍या है या आप अपने डॉक्‍टर से इस विषय पर सलाह ले सकते हैं. यदि आप वेट लूज करने की सोच रहे हैं तो न्‍यूट्रीशनलिस्‍ट से इस विषय पर बात कर ही आप बाजार में ऑयल खरीदें. (Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)








news18

Leave a Comment